बिहार में राजनीतिक दलों ने विधाrनसभा चुनाव (Bihar Election 2020)) की तैयारियां शुरू कर दी हैं. चुनाव को सामने देखते हुए महागठबंधन के (Grand Alliance) नेताओं ने इसकी शुरूआत की जिसमें हम (HAM) पार्टी के प्रमुख जीतन राम माँझी, रालोसपा अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा और वीआईपी (VIP) पार्टी के अध्यक्ष मुकेश साहनी शामिल हुए लेकिन बंद कमरे में चली इन नेताओं ने बैठक की जानकारी ना तो आरजेडी को दी और न ही कांग्रेस के किसी नेता को. इस बैठक में आरजेडी और कांग्रेस के नेताओं को बुलाया तक नहीं गया.
महागठबंधन के ये सभी तीनों नेताओं की बैठक मुकेश सहनी के कार्यालय में हुई. मुकेश सहनी के कार्यालय में चली इस बैठक में उपेन्द्र कुशवाहा और जीतन राम मांझी ने प्रवासी मजदूरों की वापसी को बड़ा राजनीतिक मुद्दा बनाने पर चर्चा की. आने वाले मजदूरों को कैसे राहत पहुंचाई जाए और आने वाले चुनावों में मजदूरो को राहत देने का मामला उठाने की रणनीति पर चर्चा हुई. सूत्रों की माने तो गठबंधन में सीटों के बंटवारा समय पर होने के लिए आरजेडी और कांग्रेस पर दबाब बनाने पर भी चर्चा हुई.
मांझी, कुशवाहा और मुकेश सहनी की बैठक पर कांग्रेस नेता प्रेमचन्द्र मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि शायद सभी नेता सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं इसलिए बैठक में उन लोगों को नहीं बुलाया. बैठक का कमरा छोटा होगा इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग के नियम टूट सकता था. मिश्रा ने कहा कि आपस में बैठकर क्या चर्चा हुई ये वही लोग बता सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here