लॉकडाउन के 45 दिनों के बाद शुक्रवार को खुली इलेक्ट्रिक-इलेक्ट्रॉनिक दुकानों में खरीदारों की भीड़ उमड़ पड़ी। पहले दिन राजधानी में पांच करोड़ के कारोबार का अनुमान है। यह हाल तब है, जब बाकरगंज, चांदनी चौक और एसपी वर्मा रोड जैसे मुख्य बाजार प्रशासन के आदेश पर बंद रहे। शहर की महज 10 फीसद दुकानें ही खुलीं। इसमें भी भीड़ बढऩे पर अधिसंख्य को तीन से चार घंटे बाद ही बंद करा दिया गया।

सबसे अधिक डिमांड लैपटॉप, मोबाइल, टीवी, पंखा, एसी व कूलर की रही। प्रमुख डीलर आदित्य विजन के पटना जिला स्थित सेंटरों में 750 से अधिक उपकरणों की बिक्री हुई। तारामंडल के पास स्थित केंद्र को भीड़ के कारण दोपहर बाद बंद करा दिया गया। आदित्य विजन के निदेशक निशांत प्रभाकर ने बताया कि पहले दिन 85 लाख रुपये का कारोबार हुआ। लेनवो के डिस्ट्रीब्यूटर अशोक पोद्दार ने बताया कि 100-150 लैपटॉप की पटना में बिक्री हुई। करीब 80 लाख के कारोबार का अनुमान है।

बीआइए अध्यक्ष राम लाल खेतान ने बताया कि अभी 10 फीसद दुकानें ही खुलीं। इलेक्ट्रॉनिक के अलावा अन्य सेक्टरों में भी बाजार का रेस्पांस बढिय़ा रहा। कंफेडेरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के अध्यक्ष अशोक कुमार वर्मा ने बताया कि दुकानें केवल तीन-चार घंटे ही खुली रह सकीं। इसके बाद पुलिस ने बंद करा दी गईं। इससे बाजार पर व्यापक असर पड़ा। उन्होंने प्रशासन से अपील की कि जो दुकानदार लॉकडाउन के नियमों का पालन कर रहे हैं, उनको तय समय तक दुकानें खोलने की इजाजत मिलनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here