देश में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने का लिए लॉकडाउन को बढ़ा कर 31 मई तक कर दिया गया है. इस बीच श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए प्रवासी मजदूरों की घर वापसी का सिलसिला जारी है. राज्य में लौटने वाले प्रवासियों में कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण मामलों में वृद्धि के बीच रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि बिहार ने प्रतिदिन 50 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को अनुमति देने की प्रतिबद्धता जाहिर की है. रेलवे द्वारा एक मई से ट्रेनों का परिचालन शुरू करने के बाद बिहार में तीन लाख से अधिक प्रवासी वापस आ चुके हैं.

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस बात की जानकारी अपने एक ट्वीट में दिया. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि “मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी है कि बिहार के प्रवासी श्रमिकों के बारे में वहां के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के साथ मेरी सार्थक चर्चा हुई, और उन्होंने कामगारों को घर पहुंचाने के लिये 50 श्रमिक स्पेशल ट्रेन प्रतिदिन तक चलाने की स्वीकृति दी है.” रेल मंत्री ने आगे जानकारी दी कि रेलवे द्वारा 20 लाख से अधिक कामगारों को 1,565 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन कर उनके घर भेजा जा चुका है. अकेले उत्तर प्रदेश 837, बिहार 428 और मध्यप्रदेश 100 से अधिक ट्रेनों की अनुमति दे चुके है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here