रविवार को दक्षिणी दिल्ली के विभिन्न इलाकों से करीब 1200 प्रवासी मजदूरों को लेकर तीसरी विशेष श्रमिक ट्रेन मुजफ्फरपुर भेजी गई. हैरानी वाली बात यह है कि इन लोगों को ले जाने के लिए बिहार सरकार ने किराया नहीं दिया. किराये के लिए रेलवे को पहले भुगतान करना था. वहीं, बिहार सरकार से संपर्क किया गया, मगर बिहार सरकार ने कोई जवाब नहीं दिया.

बिहार सरकार की तरफ से जवाब नहीं मिलने पर जिला प्रशासन ने उन कंपनियों पर दबाव बनाया जिन कंपनियां में ये मजदूर काम कर रहे थे. जिला प्रशासन ने इन कंपनियों से मजदूर के लिए ट्रेन के टिकट खरीदवाये. तब मजदूरों को भेजा जा सका. रविवार शाम को चार बजे शटल बसों में बैठाकर इन मजदूरों को दक्षिणी दिल्ली से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन लाया गया. यहां पहुंचने के बाद सभी मजदूरों की पहले जांच की गई. उसके बाद उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग के साथ साथ ट्रेन में बैठाया गया.

बिहार के कामगारों को लेकर रविवार को दूसरी विशेष ट्रेन नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से मुजफ्फरपुर के लिए रवाना हुई. इसके पहले एक ट्रेन शुक्रवार को भी मुजफ्फरपुर रवाना हुई थी. लगभग 12 सौ लोगों को लेकर रविवार शाम 6.35 बजे रवाना हुई ट्रेन सोमवार दोपहर 12.35 बजे मुजफ्फरपुर पहुंची.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here